साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़ी वो 10 बातें जो पूरी तरह झूठ हैं, आज तक सच मानते रहे होंगे आप

साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़ी वो 10 बातें जो पूरी तरह झूठ हैं, आज तक सच मानते रहे होंगे आप

यदि आप साउथ इंडियन फिल्मों के शौकीन हैं और आप साउथ इंडियन फिल्मों और उनसे जुड़ी खबरों को फॉलो करते रहते हैं। पर सबने कुछ न कुछ ऐसी भी बातें जरूर सुनी होंगी, जिस पर शायद आपने भरोसा कर लिया होगा। आज के इस लेख में हम आपको साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री से जुड़ी ऐसी 10 बातों के बारे में बताने जा रहे हैं जो वास्तव में पूरी तरह झूठ है लेकिन आमतौर पर इन्हें सही माना जाता रहा है।

1.) साउथ इंडस्ट्री के सभी हीरोज की मूछे होती हैं:
यह बात आपने कई बार सुनी होंगी कि साउथ इंडस्ट्री के सभी हीरोज की मूछे होती हैं। लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं है। क्योंकि ऐसे कई स्टार्स हैं जो बिना मूछों के भीटॉलीवुडपर धाक जमाए हुए हैं। इन एक्टर्स में महेश बाबू और सुकुमार जैसे सुपर स्टार्स के नाम हैं।

2.) सभी हीरोइन का वजन ज्यादा होता है:
साउथ की फिल्मों के बारे में एक मिथक यह भी है कि इस इंडस्ट्री की सभी हीरोइनों का वजन बहुत ज्यादा होता है। यानी, इन फिल्मों में हीरोइन्स साइज जीरो नहीं होती हैं। हालांकि, इलियाना डी-क्रूज और श्रिया सरन जैसी कई हीरोइन हैं जो ज़ीरो फिगर हैं।

3.) साउथ इंडियन फिल्में सिर्फ मद्रासी फिल्में होती हैं:
शायद आपने भी यह सुना होगा कि साउथ की फिल्में सिर्फ तमिल भाषा में ही होती हैं। हालांकि, यह पूरी तरह गलत है क्योंकि साउथ इंडस्ट्री की फिल्में सिर्फ तमिल में नहीं बल्कि तेलुगु,मलयालमऔर कन्नड़ फिल्में भी साउथ की ही कहलाती हैं।

4.) साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री में कास्टिंग काउच नहीं होता:
अरे यह कौन सी बात हुई है, वास्तव में सभी फिल्म इंडस्ट्री में ऐसे ही काम होते हैं।

5.) जरुरी नहीं कि आप साउथ के हों तो ही काम मिले:
यह बात बिल्कुल साफ है कि, यदि आपको साउथ इंडियन भाषाएं नहीं आती हैं तब भी आप वहां की फिल्मों में काम कर सकते हैं। हालांकि, शर्त यह होती है कि, स्थानीय रंग और व्यवहार में रंग जाएं।

इसके अलावा आपको टूटी-फूटी ही सही लेकिन रिकॉर्डिंग के समय अपनी ही आवाज का उपयोग करना होगा। हालांकि, इसके बाद भी वाइस और लिपसिंग में थोड़ा बहुत अंतर तो रहता ही है।

6.) साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री की फिल्मों में सभी स्थानीय भाषा ही कैसे बोलते हैं:
टॉलीवुड इंडस्ट्री में हर कोई चाहे वह रिक्शा वाला ही क्यों न हो साउथ की ही भाषा बोलते हैं। चाहे वह फ़िल्म लंदन में शूट हुई हो या फिर मुंबई या दिल्ली में।

7.) येन्ना रस्कला:
येन्ना रस्कला ये सही नहीं है। लोगों को लगता है कि यही सही शब्द है। पर यह गलत शब्द है। जबकि सही शब्द है येन्ना रस्कल या येन्नडा रस्कल।

8.) साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री एक्सपेरिमेंटल है:
ऐसा कहा जाता रहा है कि, साउथ फ़िल्म इंडस्ट्री एक्सपेरिमेंटल है हालांकि, यह सच नहीं है। वहां सभी तरह की फिल्में बनती रही हैं। खास तौर से देखें तो मसाला फिल्में। स्क्रिप्ट और एक्शन के मामले में ये बॉलीवुड से कम नहीं हैं।

9.) साउथ इंडिया में हिंदी फिल्में नहीं चलतीं:
यह सच तो है कि, साउथ इंडिया में हिंदी फिल्में नहीं चलतीं हैं लेकिन यह पूरी तरह से सच नहीं है। बॉलीवुड फिल्में साउथ इंडिया में भी रिलीज होती हैं। वहाँ के बड़े शहरों में नॉर्थ इंडियन या हिंदी भाषी लोग बॉलीवुड की फिल्में जमकर देखते हैं।

10.) रजनीकांत भगवान हैं:
अरे, ये क्या था? अब इसे अगर गलत कहें तो हम ग़लत होंगे क्योंकि रजनीकांत के चाहने वाले लोग दुनिया के हर कोने में हैं। और, जहाँ-जहाँ उनकी फिल्में देखी जातीं हैं उन्हें भगवान की नजर से देखा जाता है।

Ronak Lakhani

Ronak Lakhani