क्या आप जीवन में सुख-शांति चाहते है, तो अभी से आचार्य चाणक्य की इन 4 बातो को अपने जीवन में अपनाइये…..

क्या आप जीवन में सुख-शांति चाहते है, तो अभी से आचार्य चाणक्य की इन 4 बातो को अपने जीवन में अपनाइये…..

आचार्य चाणक्य भारत के एक महान विद्वान रहे हैं। उनके द्वारा बताई और दिखाई गई कहानियाँ आज भी लोगों के लिए बहुत उपयोगी हैं। उन्होंने मानव जीवन के बारे में बहुत कुछ कहा है। आचार्य चाणक्य द्वारा सदियों पहले दिखाई गई कहानियाँ आज भी बहुत प्रासंगिक हैं। वैसे भी आचार्य चाणक्य के शब्द काम आ सकते हैं।

आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में हर किसी को अपनी नीतियां पढ़नी चाहिए और उन्हें लागू भी करना चाहिए। यह आपके जीवन को बेहतर बना देगा। आज की दुनिया में व्यक्ति के पास शांति और सुख नहीं है। वह चाहकर भी उसके करीब नहीं जा सकता। हालांकि चाणक्य ने कुछ ऐसी बातों का जिक्र किया है जो आपके जीवन में सुख और शांति ला सकती हैं। आपको जो कहा जा रहा है उसे ध्यान से पढ़ें और समझने की कोशिश करें। आइए जानते हैं चाणक्य ने इस बारे में क्या कहा है।

सुख-शांति के लिए अपनाएं ये 5 चीजें

खुशी का संबंध हमारे खाने-पीने से भी है। जब खाना-पीना अच्छा और पौष्टिक नहीं होता, तो हमारा तन और मन दोनों बेचैन हो जाते हैं। इसमें आचार्य चाणक्य ने कहा है, कभी भी ऐसी चीजों का सेवन न करें जिससे आपका पाचन तंत्र खराब हो जाए। आपको ऐसा कुछ भी नहीं खाना चाहिए जिसे आप पचा नहीं सकते। यह आपकी सेहत को भी खराब कर सकता है और आपको बीमार भी कर सकता है।

हर कोई जवान और बूढ़ा, अमीर और गरीब। हर कोई सम्मान चाहता है। सभी को सम्मान पाने का भी अधिकार है। हालांकि कई बार स्थिति ऐसी हो जाती है कि व्यक्ति अपमान का शिकार हो जाता है। कभी-कभी बैठक में किसी का अपमान हो जाता है। आचार्य चाणक्य इसे लेते हैं और कहते हैं कि हमें कभी भी ऐसी जगह नहीं जाना चाहिए जहां हमारा अपमान हो। हम ऐसी जगह को जितनी जल्दी छोड़ दें उतना अच्छा है। ऐसा करने से मन शांत होता है और ऐसा न करने से मन में कड़वाहट पैदा होती है। साथ ही हम अंदर से भ्रमित महसूस करते हैं।

तीसरी बात का ध्यान रखें कि अपने जीवन में कभी भी अहंकार को जगह न दें। कोई फर्क नहीं पड़ता कि जगह कहाँ है या लोग कहाँ हैं, कभी भी अहंकार या अहंकार को अपने अंदर न आने दें। कभी भी अहंकार न दिखाएं, खासकर अपने परिवार और दोस्तों के बीच। ऐसा करने से आपको नुकसान ही होगा और आपके रिश्ते में खटास आ जाएगी।

जीवन में शांति के लिए ध्यान रखने वाली एक और चीज है जिसे एक या दो बार समझने वाले के साथ समय बिताने की जरूरत है। लेकिन अगर आप इसे बार-बार कहते हैं, अगर आपको समझ में नहीं आता है और कुछ गलत करते हैं, तो तुरंत इससे छुटकारा पाएं। क्योंकि इससे आपको कुछ नहीं मिलता, बल्कि आपका समय बर्बाद होगा। ताकि आप अपना कीमती समय किसी फालतू के काम में बर्बाद न करें।

सच्चाई के साथ चलने वालों का हमेशा साथ दें। जो गलत या पक्षपात करते हैं उनका साथ छोड़ दो। आचार्य चाणक्य का कहना है कि यदि आप जीवन में सुख शांति चाहते हैं तो ऐसे व्यक्ति के पीछे समय बर्बाद न करें जो सच सुनकर नाराज हो और जिसमें सच सुनने की हिम्मत न हो। ऐसे लोग झूठे होते हैं और आपके लिए हानिकारक भी हो सकते हैं।

jaimish

jaimish