दुनिया पर राज करने की तैयारी में मुकेश अंबानी, इस देश में बना रहे अपना फैमिली ऑफिस

दुनिया पर राज करने की तैयारी में मुकेश अंबानी, इस देश में बना रहे अपना फैमिली ऑफिस

एशिया का दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति और रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के मालिक मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) सिंगापुर में अपना फैमिली ऑफिस खोलने जा रहे हैं। अरबपति अंबानी ने इस ऑफिस में स्टाफ की नियुक्ति के लिए एक मैनेजर रखा है।

ब्लूमबर्ग की एक रिपोर्ट के अनुसार, मामले से जुड़े लोगों ने यह जानकारी दी है। लोगों ने बताया कि अंबानी (Mukesh Ambani) ने अपने फैमिली ऑफिस (Family Office) के लिए सिंगापुर (Singapore) में रियल एस्टेट प्रॉपर्टी भी चुन ली है। हालांकि, रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) ने इस पर किसी भी टिप्पणी से इंकार कर दिया है। बता दें कि बुधवार को एक कॉल पर मुंबई स्थित मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया को उड़ाने की धमकी मिली थी।

सुपर रिच लोगों की पहली पसंद सिंगापुर
अंबानी (Mukesh Ambani) से पहले कई अरबतियों ने सिंगापुर को अपने फैमिली ऑफिस के लिए चुना है। अरबपति रे डेलिओ और गूगल के सह-संस्थापक सर्गी ब्रिन का नाम भी इस लिस्ट में शामिल है। सिंगापुर टैक्स की कम दरों और सुरक्षा के अच्छे इंतजामों के चलते फैमिली ऑफिसेज के लिए आकर्षक जगह बनता जा रहा है। सिंगापुर की मौद्रिक अथॉरिटी के अनुसार, साल 2021 के आखिर तक ऐसे दफ्तरों की संख्या बढ़कर 700 तक पहुंच गई थी। यह इससे पिछले साल केवल 400 थी।

अरबपतियों के चलते बढ़े कई वस्तुओं के दाम
सिंगापुर में दुनिया के सुपर रिच लोगों द्वारा अपने फैमिली ऑफिसेज स्थापित करने से यहां महंगाई काफी बढ़ गई है। सिंगापुर में कारों, हाउसिंग और दूसरी वस्तुओं के दाम बढ़ते जा रहे हैं। सिंगापुर के समावेशी विकास के लिए यहां अमीरों पर अधिक टैक्स लग सकते हैं। सिंगापुर के डिप्टी प्राइम मिनिस्टर लॉरेंस वॉन्ग ने अगस्त में एक इंटरव्यू के दौरान इसके संकेत दिए थे।

कारोबार को वैश्विक स्तर पर ले जाना है उद्देश्य
मुकेश अंबानी अपने रिटेल से लेकर रिफाइनिंग तक के कारोबार को वैश्विक स्तर पर ले जाना चाहते हैं। साथ ही वे भारत के बाहर एसेट्स खरीदना चाहते हैं। इसी के चलते वे सिंगापुर में अपना फैमिली ऑफिस तैयार कर रहे हैं। साल 2021 में रिलायंस के बोर्ड में अरामको के चेयरमैन की नियुक्ति की घोषणा करते हुए अंबानी ने अपने शेयरधारकों से कहा था, ‘यह रिलायंस समूह के “अंतर्राष्ट्रीयकरण की शुरुआत” है। आप आने वाले समय में हमारी कई अंतरराष्ट्रीय योजनाओं के बारे में सुनेंगे’।

Ronak Lakhani

Ronak Lakhani