Nitin Desai : नितिन देसाई के अलावा इन बॉलीवुड सितारों ने झेली हैं आर्थिक मुश्किलें

Nitin Desai : नितिन देसाई के अलावा इन बॉलीवुड सितारों ने झेली हैं आर्थिक मुश्किलें

Nitin Desai : ‘देवदास’, ‘जोधा अकबर’, ‘लगान’ जैसी फ़िल्मों के लिए बड़े-बड़े सेट डिज़ाइन करने वाले आर्ट डायरेक्टर Nitin Desai का शव पिछले दिनों उनके स्टूडियो में मिला था.

पुलिस को शक़ है कि Nitin Desai ने आत्महत्या की थी.

58 वर्षीय Nitin Desai सिर्फ़ आर्ट डायरेक्टर ही नहीं थे, वे निर्माता-निर्देशक भी थे.

निर्देशक के तौर पर Nitin Desai ने फ़िल्म ‘अजिंता’ और ‘हेलो जय हिंद’ जैसी मराठी फ़िल्मों का निर्देशन किया था.

Nitin Desai ने कुछ फ़िल्मों जैसे ‘दौड़’, ‘हेलो जय हिंद’ और ‘बाल गंगाधर’ में अभिनय भी किया था.

आर्ट डायरेक्टर के तौर पर Nitin Desai न केवल फ़िल्मों के सेट सजाए, बल्कि राजनेताओं के लिए भी काम किया.

Nitin Desai प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से लेकर उद्धव ठाकरे तक की रैलियों के लिए बड़े-बड़े मंच तैयार किए थे.

Nitin Desai का शव उनके ही स्टूडियो में मिला जो कि मुंबई से सटे रायगढ़ के कर्जत इलाक़े में है.

Nitin Desai की बेटी मानसी Nitin Desai ने समाचार एजेंसी एएनआई को दिए इंटरव्यू में कहा है कि उनके पिता की कंपनी एनडी वर्ल्ड आर्ट प्राइवेट लिमिटेड ने एक कंपनी से 181 करोड़ रुपये का कर्ज़ लिया था और 86.31 करोड़ रुपये वापस जमा कर दिया था.

मानसी ने कहा, “लोन कंपनी ने छह महीने का एडवांस ब्याज़ मांगा था जिसे मेरे पिता ने पवई का ऑफ़िस बेचकर भुगतान कर दिया था.”

वरिष्ठ पत्रकार और फ़िल्म समीक्षक रामचंद श्रीनिवासन बताते हैं कि Nitin Desai ने 2016 और 2018 में ये कर्ज लिया था और जनवरी 2020 से वे कर्ज़ चुका नहीं पा रहे थे.

बॉलीवुड में सितारों का आर्थिक परेशानियों में घिरना कोई नई बात नहीं रही है. आइए एक नज़र डालते हैं कुछ सितारों के जीवन पर, जो आर्थिक संकटों के कारण उथल-पुथल वाला रहा.

गुरुदत्त की परेशानी
ऐसा नहीं है कि फ़िल्म इंडस्ट्री में ऐसा किसी के साथ पहली बार हुआ हो.

कामयाबी के बाद पैसों की तंगी और अपना सब कुछ लुट जाने के बाद एक दर्दनाक अंत. कुछ ऐसा ही हुआ था बहुमुखी प्रतिभा के धनी गुरुदत्त के साथ.

‘प्यासा’, ‘साहब, बीवी और ग़ुलाम’, ‘चौदहवीं का चांद’ जैसी बेमिसाल फ़िल्में देने वाले गुरुदत्त उस वक़्त दिवालिया हो गए थे, जब ‘काग़ज़ के फूल’ सिनेमाघरों में अपना कमाल नहीं दिखा सकी और बहुत बड़ी फ़्लॉप साबित हुई.

इस फ़िल्म की नाकामी ने उन्हें अंदर तक तोड़ दिया था. फ़िल्म में बहुत पैसा लगा था, जिसके चलते काफ़ी कर्ज़ हो गया.

इसे लेकर वो हताश तो थे ही. लेकिन उनकी हिम्मत उस समय और टूट गई, जब वो अपने आख़िरी समय में अकेले हो गए.

उस दौर में गुरुदत्त और उनकी पत्नी गीता दत्त में इतनी अनबन हो गई थी कि वे अपनी बेटी को लेकर अलग रहने लगी. परिवार का बिखरना उन्हें बेहद लाचार और अकेलापन दे गया.

वहीं दूसरी ओर फ़िल्म में नुक़सान की वजह से गुरुदत्त बिल्कुल टूट चुके थे. 39 साल की उम्र में गुरुदत्त अपने ही बेडरूम में मृत पाए गए थे.

मनमोहन देसाई
कई सुपरहिट फ़िल्में देने वाले मनमोहन देसाई के बारे में माना जाता है कि अमिताभ बच्चन को सुपरस्टार बनाने में उनका बड़ा हाथ था. उन्होंने अमिताभ बच्चन के साथ ‘अमर अकबर एंथनी’, ‘सुहाग’, ‘नसीब’, ‘देश प्रेमी’, ‘परवरिश’, ‘कुली’, ‘मर्द’, ‘गंगा जमुना सरस्वती’ और ‘तूफ़ान’ जैसी फिल्में कीं. ये फ़िल्में हिट रहीं. वरिष्ठ पत्रकार और फ़िल्म समीक्षक रामचंद श्रीनिवासन कहते हैं कि मनमोहन देसाई की ज़िंदगी में एक ऐसा दौर आया, जब उनकी फ़िल्में फ़्लॉप होनी शुरू हुईं जिसके चलते उन्हें बहुत बड़ा सदमा लगा. उन्हें बहुत नुक़सान हुआ. उनके बेटे केतन देसाई की पहली फ़िल्म ‘अनमोल’ की नाकामी ने उन्हें और कमज़ोर कर दिया था. फ़िल्मों के फ़्लॉप होने के चलते वो अंदर से टूट गए थे और एक दिन अपने ही घर की बालकनी से गिरने से उनकी मौत हो गई.

admin