दशहरे के दिन इस चिड़िया के दर्शन मात्र से हो जाती है आपकी सारी मनोकामना पूरी होगी…

दशहरे के दिन इस चिड़िया के दर्शन मात्र से हो जाती है आपकी सारी मनोकामना पूरी होगी…

दशहरा का त्योहार भारत में बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है और इस दिन रावण का अंतिम संस्कार किया जाता है। यह पर्व हमें असत्य पर सत्य की जीत का संदेश देता है। इस दिन शमी के पेड़ की पूजा करने से शुभ फल की प्राप्ति होती है. इस प्रकार दशहरे पर नीले गले वाले पक्षी का दिखना एक बहुत ही शुभ संकेत माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि दशहरे के दिन अगर आप अचानक इस पक्षी को देख लें तो आपका भाग्य बदल जाएगा। आपके जीवन में खुशियां आने लगती हैं। इस दिन नीले पक्षी के प्रकट होने से जुड़ी एक कहानी है, जिसके बारे में हम आपको अपने लेख में बताएंगे।

रावण ने सीता की माता को धोखा दिया और उन्हें और लंका को अपने साथ ले गया। भगवान राम अपनी पत्नी को रावण की कैद से मुक्त कराने के लिए अपने भाई लक्ष्मण और वानर सेना के साथ श्रीलंका गए थे। अहिया में रामजी और रावण के बीच युद्ध हुआ था। इस युद्ध में रामजी ने रावण का वध किया और सीता मान को रावण की कैद से मुक्त कराया। रावण को हराने के बाद रामजी अयोध्या चले गए। लेकिन रामजी पर ब्रह्महत्या का पाप था, जिसे वे दूर करना चाहते थे। इस अपराध से मुक्ति पाने के लिए उन्हें भगवान शिव की आराधना करने का साधन दिया गया था। तब रामजी ने अपने भाई के साथ भगवान शिव की पूजा की और इस पाप से छुटकारा पाने का प्रयास किया।

इस पूजा से प्रसन्न होकर भगवान शिव नीलम पक्षी के रूप में धरती पर आए और भगवान राम के सामने प्रकट हुए। तभी से नीलकंठ को पृथ्वी पर भगवान शिव का प्रतिनिधि पक्षी माना जाता है।

शास्त्रों के अनुसार नीलकंठ पक्षी भगवान शिव का ही एक रूप है। भगवान शिव नीले गले वाले पक्षी के रूप में पृथ्वी पर विचरण करते हैं। दशहरे पर नीलकंठ के दर्शन करना भी शुभ होता है। ऐसा माना जाता है कि दशहरे के दिन नीलकंठ पक्षी दिखाई दे या आपके घर की छत पर आ जाए तो घर में धन की वृद्धि होती है। पूरा साल बहुत अच्छा बीतता है। यह पक्षी ज्यादातर उष्ण कटिबंध में पाया जाता है और बहुत कम लोग होते हैं जिन्होंने इस पक्षी को देखा हो। इसलिए अगर आप इस पक्षी को देखें तो अपने आप को भाग्यशाली समझें। साथ ही हो सके तो इस पक्षी के लिए छत पर पानी और अनाज भी रखें।

admin

admin