एक होगा अंदर, एक जाएगा बाहर, बीसीसीआई के नए नियम से टी 20 क्रिकेट में आएगी नई बहार

एक होगा अंदर, एक जाएगा बाहर, बीसीसीआई के नए नियम से टी 20 क्रिकेट में आएगी नई बहार

क्रिकेट के खेल को दिलचस्प बनाने के लिए बीसीसीआई ने एक नया प्रयोग करने की ओर कदम बढ़ाया है। बोर्ड इसको सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में आजमाने के लिए तैयार है। सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी भारत का घरेलू टी20 टूर्नामेंट है जो 11 अक्टूबर से शुरू होगा और 5 नवंबर तक चलेगा। इस दौरान बीसीसीआई ने इंपैक्ट प्लेयर (Impact Player) का कांसेप्ट लाया है जो ऐसे ही काम करेगा जैसे फुटबॉल, बास्केटबॉल जैसे गेम्स में सब्स्टिट्यूट प्लेयर करता है। आइए समझने की कोशिश करते हैं ये नियम क्या है और कैसे काम कर सकता है।

इंपैक्ट प्लेयर बीसीसीआई का मानना है ऐसा करने से मैच ना केवल दर्शकों के लिए बल्कि खेलने वाली टीमों के लिए भी दिलचस्प बन जाएगा। टीमों को मैच की स्थिति के हिसाब से अपनी रणनीति सेट करने का नया तरीका मिलेगा। इस नियम के मुताबिक कोई टीम टी-20 मुकाबले के दौरान अपनी प्लेइंग इलेवन के एक खिलाड़ी को एक इंपैक्ट प्लेयर से रिप्लेस कर सकती है। ध्यान रहे किसी भी स्थिति में मैदान पर खिलाड़ी 11 ही बैटिंग करेंगे। इसके लिए टीमों के कप्तानों को टॉस के समय प्लेइंग इलेवन के अलावा चार सब्स्टिट्यूट्स के नाम देने होंगे।

14वें ओवर से पहले ही इस्तेमाल करना होगा इनमें से एक सब्स्टिट्यूट को इंपैक्ट प्लेयर के तौर पर खिलाया जा सकता है। ध्यान देने वाली बात यह भी है कि एक मैच में एक टीम एक ही इंपैक्ट प्लेयर को उतार सकती है। वह किस खिलाड़ी का इस्तेमाल करेगी यह पूरी तरह टीम पर निर्भर करता है। नियम के मुताबिक इंपैक्ट प्लेयर को किसी भी पारी के 14वें ओवर से पहले ही इस्तेमाल करना जरूरी है। इसके लिए कप्तान या टीम का हेड कोच या मैनेजर चौथे अंपायर को बताएगा और फिर उस ओवर के बाद इंपैक्ट प्लेयर मैदान में आ सकता है।

ऐसी स्थिति में काम नहीं करेगा ये नियम जिस खिलाड़ी की जगह इंपैक्ट प्लेयर आएगा वह खिलाड़ी फिर मैच में वापस नहीं आ सकता है चाहे कोई भी स्थिति हो। इंपैक्ट प्लेयर मैदान में तभी उतरेगा जब कोई ओवर समाप्त हो चुका हो या फिर उसको किसी विकेट के गिरने पर भी मैदान में लाया जा सकता है और अगर कोई टीम फील्डिंग कर रही है तो किसी खिलाड़ी की चोट के समय भी इंपैक्ट प्लेयर आ सकता है। बीसीसीआई के नियम के मुताबिक अगर कोई मुकाबला दोनों पारियों में 10 ओवर से कम का हो रहा है तो वहां पर कोई इंपैक्ट प्लेयर नहीं होगा। लेकिन अगर किसी टीम को 10 ओवर भी खेलने का मौका नहीं मिला और बारिश या किसी वजह से मैच की पहली 10 ओवर से पहले ही समाप्त हो गया गई और आगे जाकर बचे हुए ओवरों में और भी कमी की जाती है, तो दोनों ही टीमों को इंपैक्ट प्लेयर इस्तेमाल करने की छूट होगी।