तनिश ने बस आठवीं कक्षा तक की है पढ़ाई, 10 साल की उम्र में खड़ी कर दी खुद की कंपनी

तनिश ने बस आठवीं कक्षा तक की है पढ़ाई, 10 साल की उम्र में खड़ी कर दी खुद की कंपनी

तनिश ने बस आठवीं कक्षा तक की है पढ़ाई, 10 साल की उम्र में खड़ी कर दी खुद की कंपनीआज हम आपको एक एसे बच्चे के बारे में बताने जा रहे हैं, जो पढ़ाई छोड़ कर कंप्यूटर के साथ खेलते खेलते सफलता की बुलंदियों को छूने लगा। जी हाँ हम बात कर रहे हैं ‘Innowebs Tech’ के तनिश मित्तल (Tanish Mittal) के बारे में। तनिश मित्तल का जन्म 7 नवंबर 2005 को हुआ बचपन से ही उन्हें कंप्यूटर मैं पढ़ाई से अधिक दिलचस्पी थी।

कोन हे तनिश मित्तल
तनिश मित्तल Innowebs Tech नामक के कंपनी के फाउंडर (Company Founder) और CEO हैं, जो इस कंपनी को पिछले 5 वर्षों से चलाते आ रहे हैं। तनिश ने आठवीं कक्षा (8th Class) के बाद स्कूल छोड़ दी और फिर कंप्यूटर पर वेब डिजाइन और फोटोशॉप आदि का काम करने लगे, एडवांस्ड PG डिप्लोमा लेवल कोर्स ईन एनिमेशन और साइबर सिक्युरिटी और कई अन्य कोर्स भी किये तनिष्क मित्तल के पिता नितिन मित्तल एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर (Software Engineer) है।

पिता ने आपने बेटे के हुनर को पहचान लिया
नितिन मित्तल ने बताया के मात्र 6 वर्षा की आयु में ही तनिष्क ने कंप्युटर (Computer) का बेसिक ज्ञान सिख लिया था। पिता नितिन मित्तल (Nitin Mittal) ने आपने बेटे के हुनर को पहचान लिया था, इसी लिए स्कूल छोड़ने के निर्णय मे साथ दिया था।

तनिष्क 8th क्लास तक आते आते कई प्रकार के सोफ्टवेयर मे काम करने लगे थे। वेब डिजाइन, एथिकल हैकिंग जेसे कई स्किल्स सीखने के लिए आपने आपको तैयार कर लिया था 9 वर्श की उम्र होने तक तनिष्क कंप्यूटर पर इंटरनेट की मदद से एनीमेशन, वीडियो एडिट, फोटोशॉप और एनीमेशन जैसे अनेक काम बड़ी आसानी से करने लगे थे। उनकी इस हुनर को देखकर उनके पिता नितिन भी काफी हेरान हो जाते थे।

कम आयु के कारण दाखिला देने
तनिश के पिता नितिन मित्तल आपने बेटे को दुनिया में अलग पहचान दिलवाना चाहते थे। 8th क्लास से स्कूल छोड़ने के बाद एक प्रोफेशनल की तरह तैयारी करने के लिए तनिश को किसी टेक्निकल संस्थान से शिक्षा लेने की जरूरत थी पर कोई भी उन्हें कम आयु के कारण दाखिला देने के लिए राजी नहीं था।

तनिश के पिता ने किसी प्राइवेट संस्थान से बात करने के बाद में तनिश के लिए दाखिला करवा लिया। पहले वह संस्थान भी तनिश की कम आयु के कारण मना कर रहे थे, परंतु तनिश की हुनर देख उससे प्रभावित होकर दाखिला दे दिया।

Ronak Lakhani

Ronak Lakhani