श्रीमद्भागवत गीता के ये 5 श्लोक जीवन जीने की सही दिशा देते हैं।

श्रीमद्भागवत गीता के ये 5 श्लोक जीवन जीने की सही दिशा देते हैं।

यह त्यौहार पूरे महीने के मार्गशीर्ष या शुक्ल पक्ष की एकादशी के दिन मनाया जाता है।इस साल गीता जयंती 14 दिसंबर मंगलवार को मनाई जाएगी।ऐसा माना जाता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने अर्जुन के माध्यम से पूरी दुनिया को गीता का अमृत संदेश दिया था।

श्रीमद्भागवत गीता न केवल सनातन धर्म का पवित्र ग्रंथ है बल्कि यह पूरी दुनिया और मानव जाति के लिए एक अद्वितीय उपहार है।गीता कठिन से कठिन परिस्थितियों में उचित मार्गदर्शन देती है।यही कारण है कि महात्मा गांधी से लेकर आइंस्टीन तक कई महापुरुषों और संतों को गीता से प्रेरणा और मार्गदर्शन मिलता रहा है।

इस गीता जयंती पर हम आपको बता रहे हैं गीता के 5 ऐसे श्लोकों के बारे में जो आपको अपने जीवन में सही दिशा और सफलता का मार्ग खोजने में मदद करेंगे।

1. सफलता जीवन के संघर्षों से डरने से नहीं, बल्कि उनका सामना करने से मिलती है।
हटो या प्रप्यसी स्वर्गम, जित्व या भोक्ष्यसे माहिम।
तस्मत उत्तिष्ठ कौन्तेय युद्ध कृतनिश्चय: (अध्याय 2, श्लोक 37)

अर्थ:यदि आप (अर्जुन) युद्ध में शहीद हुए हैं, तो आपको स्वर्ग मिलेगा और यदि आप विजयी हैं, तो आपको पृथ्वी पर सुख मिलेगा।

2. सफलता का मूल मंत्र यह है कि हम अपनी तरफ से पूरी कोशिश करते हैं, परिणाम तय करना हमारे हाथ में नहीं है, बल्कि सही प्रयास सही परिणाम देता है।
कर्मफलहेतुर्भुरमा ते संगोत्रस्तवकर्मनी में।(अध्याय 2, श्लोक 47)

अर्थ:कर्म के फल में कभी नहीं कर्म करने का अधिकार है… इसलिए फल के लिए कर्म मत करो।आपको अन्य लोगों के प्रति जो सहायता प्रदान करते हैं, उसमें आपको अधिक भेदभावपूर्ण होना होगा।इसलिए अपने कार्यों का कारण मत बनो और अपनी निष्क्रियता से मत जुड़ो।

3. जो इन्द्रियों को वश में कर लेता है, वही संसार को जीत लेता है।
ज्ञानं लब्ध्वा परां शांतिमचिरेनाधिगच्छति:(अध्याय 4, श्लोक 39)

अर्थ:जिन लोगों की आस्था है, वे अपनी इंद्रियों पर नियंत्रण रखते हैं, साधन के अधिकारी हैं, वे अपनी तत्परता से ज्ञान प्राप्त करते हैं, फिर ज्ञान प्राप्त करने के बाद, वे जल्द ही परम शांति प्राप्त करते हैं।

4- क्रोध के कारण मनुष्य स्वयं को नष्ट कर लेता है।
थ्राद्भवति संमोह: संमोहत्स्मृतिविभ्रम :.
स्मृतिभ्रांशदबुद्धिनाशो बुद्धिनशतप्राणास्यति।(अध्याय 2, श्लोक 63)

अर्थ:क्रोध मनुष्य की बुद्धि को नष्ट कर देता है, अर्थात वह मूढ़ हो जाता है, मंदबुद्धि हो जाता है।यह स्मृति को भ्रमित करता है।स्मृति के भ्रम के कारण मनुष्य की बुद्धि नष्ट हो जाती है और जब बुद्धि नष्ट हो जाती है तो मनुष्य स्वयं को नष्ट कर देता है।

5. याद याद ही धर्मस्य गलनिर्भावती भारत :.
अबियुत्म धर्मस्य तदात्मानं सृजाम्(अध्याय 4, श्लोक 7)

अर्थ: हे भारत (अर्जुन), जब भी धर्म की हानि होती है, अर्थात् उसका क्षरण और अधर्म की वृद्धि होती है, तो श्रीकृष्ण धर्म के उत्थान के लिए मैं स्वयं अर्थात् अवतार का निर्माण करता हूँ।
जें।

jaimish

jaimish