ये हैं दुनिया के 5 अदभुत, अजीब और चमत्कारी मंदिर, जहां वैज्ञानिक भी सिर झुकाते हैं..!

ये हैं दुनिया के 5 अदभुत, अजीब और चमत्कारी मंदिर, जहां वैज्ञानिक भी सिर झुकाते हैं..!

भारत अपनी धार्मिक विविधता और सहिष्णुता के लिए दुनिया भर में जाना जाता है। धर्म और संस्कृति के क्षेत्र में विश्व विख्यात भारत ‘स्वीकृति’ को अपना मूल मंत्र मानता है, अर्थात यहाँ सभी सामाजिक कल्याण मूल्यों को सहज ही अपना लिया जाता है। देखा जाए तो भारतीय लोकतंत्र भी इसी ‘स्वीकृति’ की नींव पर बना है, जिसे दुनिया का सबसे मजबूत लोकतंत्र कहा जाता है।

इस ‘स्वीकृति’ की छवि भारतीय संस्कृति में अच्छी तरह से देखी जा सकती है। जिनमें से सबसे प्रभावशाली प्रतीक भारतीय मंदिर हैं, जो अपने दिव्य आकर्षण के लिए दुनिया भर में जाने जाते हैं। हालांकि आज हम आपको दुनिया के सबसे अजीबोगरीब मंदिरों के बारे में बताने जा रहे हैं, जिनके बारे में जानकर आप भी यकीन नहीं करेंगे।

घड़ियाघाट: मध्य प्रदेश के शाजापुर जिले में घड़ियाघाट वाला माताजी के नाम से जाना जाने वाला यह मंदिर आगर-मालवा के नलखेड़ा गांव से करीब 15 किमी दूर घड़िया गांव के पास कालीसिंध नदी के किनारे स्थित है. कहा जाता है कि पिछले पांच साल से इस मंदिर में एक महाज्योत (दीपक) लगातार जल रहा है। वैसे तो देश में कई ऐसे मंदिर हैं जहां लंबे समय से दीप जलाए गए हैं, लेकिन यहां महाज्योत की बात ही अलग है।

मंदिर के पुजारी का दावा है कि इस मंदिर में जलने वाली महान ज्वाला के लिए किसी घी, तेल, मोम या किसी अन्य ईंधन की आवश्यकता नहीं होती है, हालांकि यह दुश्मन की आग के पानी से प्रज्वलित होता है। पुजारी सिद्धूसिंह ने कहा कि पहले वह हमेशा यहां तेल के दीपक जलाते थे, लेकिन करीब पांच साल पहले उनकी मां ने सपने में दर्शन दिए और उन्हें पानी से दीपक जलाने को कहा।

लेहंडीपुर बालाजी मंदिर: यह मंदिर राजस्थान राज्य के डोसा जिले में स्थित है। लोग भूत-प्रेत से परेशान होकर इस मंदिर में आते हैं। यहां आकर बस कई चमत्कार देखे जा सकते हैं। यहां लोग एक पेड़ के नीचे जंजीर से उलटे लटके नजर आएंगे।

यहां बहुत से लोग आते हैं और अपने दुखों को दूर कर शांति पाते हैं। यदि आप शनिवार और मंगलवार को यहां जाते हैं तो आपको भक्तों की काफी भीड़ देखने को मिलेगी। यहां कई लोगों को लोहे की जंजीरों में बांधकर लाया जाता है और आम लोग इसे देखकर हैरान रह जाते हैं.

कंडी शुख मंदिर इंडोनेशिया: यह मंदिर इंडोनेशिया में स्थित है।यहाँ एक कलश मिला है, जिसमें एक अनोखा पदार्थ है। लोग इस पदार्थ को अमृत के समान मानते हैं, क्योंकि यह हजारों वर्ष पुराना होने पर भी सूखता नहीं है। ऐसा माना जाता है कि यह कलश समुद्रमंथन के दौरान मिला था, जिसकी आज भी पूजा की जाती है।

इस कलश को इस तरह से डिजाइन किया गया है कि इसे किसी भी तरह से खोला नहीं जा सकता यानी इसमें से पदार्थ नहीं निकाला जा सकता है। जानकारों के मुताबिक यह कलश 12वीं सदी का माना जाता है।

चीन का झूलता हुआ मंदिर: आप आज तक कई मंदिरों के बारे में जानते होंगे लेकिन यह मंदिर बहुत ही अनोखा है। मंदिर को इस तरह से बनाया गया है कि यह बिना किसी सहारे के खंभों के हवा में लटका रहता है। यहां स्थित मंदिर का कोई आधार नहीं है। आपको बता दें कि यह मंदिर 1400 साल पुराना है।

मंदिर इस तरह से बनाया गया है कि यहां स्थित लोग भी इसे देखने से डरते हैं लेकिन कई साल बीत जाने के बावजूद भी मंदिर बरकरार है।

किराडू मंदिर राजस्थान: यह मंदिर राजस्थान जिले में स्थित है। यह मंदिर खजुराहो के समान ही है लेकिन इसकी प्रसिद्धि की कमी के कारण आज यह वीरान हो गया है। हालांकि कभी-कभार कुछ ही लोग आते रहते हैं। यह मंदिर कई साल पुरानी संस्कृति को दर्शाता है।

मंदिर 11वीं शताब्दी में बनाया गया था। उस समय लोग यहां व्यापार करने आते थे, क्योंकि यह उद्योग का एक बड़ा केंद्र था। हालांकि, आगे विकास न होने के कारण आज यह वीरान हो गया है।

admin

admin