Uttarkashi ‘s Sneha Chauhan Won Silver Medal In Judo:उत्तरकाशी की स्नेहा चौहान ने जूडो में जीता रजत पदक, अपने शहर का मान बढ़ाया

admin
5 Min Read

Sneha Chauhan judo competition:

उत्तरकाशी की Sneha Chauhan ने जूडो प्रतियोगिता मे राष्ट्रीय स्तर पर स्वर्ण पदक जीतकर बढ़ाया देवभूमि का मान उत्तराखंड के युवा अपने हुनर का जलवा गोवा में चल रहे 37वें राष्ट्रीय खेलों में दिखाकर उत्तराखंड का नाम रोशन कर रहे हैं।

बता दे कि गोवा में चल रहे राष्ट्रीय खेलों में उत्तराखंड ने अपना पिछला रिकॉर्ड तोड़ते हुए अभी तक 19 पदक अपने नाम कर लिए हैं। 37वें राष्ट्रीय खेलों में उत्तराखंड के लगभग 240 खिलाड़ियों द्वारा क्याकिंग-कैनो, साइकिलिंग, वुशू, जूडो, बॉक्सिंग समेत 25 खेलों में प्रतिभाग लिया गया।

अभी तक उत्तराखंड द्वारा तीन स्वर्ण, पांच रजत और 11 कांस्य पदक हासिल कर लिए गए हैं। उत्तराखंड के लिए पदक हासिल करने वालों की सूची में एक नाम उत्तरकाशी जिले के हनोल के बंगाण क्षेत्र से जुड़े सीमावर्ती भगियार गांव की रहने वाली Sneha Chauhan का नाम भी शामिल हैं।

बता दें कि Sneha Chauhan ने 57 किलो ग्राम वजन की जूडो प्रतियोगिता में रजत पदक हासिल कर राज्य को गौरवान्वित किया है।

बताते चलें कि Sneha Chauhan इससे पहले खेलो इंडिया यूथ गेम्स में भी जूडो में गोल्ड मेडल अपने नाम कर चुकी हैं। स्नेहा की इस सफलता से जहां उनके परिवार में हर्षोल्लास का माहौल है वहीं खेल प्रेमियों के साथ ही पूरे क्षेत्र में भी खुशी का माहौल है।

गोवा में आयोजित 37 वें राष्ट्रीय खेलों में उत्तराखण्ड की Sneha Chauhan ने 57 किलो ग्राम वजन की जूडो प्रतियोगिता में रजत पदक जीता है।

उत्तरकाशी: उत्तराखंड के हुनर मंद खिलाड़ी आजकल गोवा में चल रहे नेशनल गेम्स में गजब का हुनर दिखा रहे हैं। इस बीच फिर से एक गुड न्यूज आई है।

Sneha Chauhan Won Silver Medal in National Games

गोवा में आयोजित 37 वें राष्ट्रीय खेलों में उत्तराखण्ड की Sneha Chauhan ने 57 किलो ग्राम वजन की जूडो प्रतियोगिता में रजत पदक जीत कर प्रदेशवासियों को गौरवान्वित किया है।

स्नेहा चौहान हनोल के बंगाण क्षेत्र से जुड़े सीमावर्ती भगियार गांव की रहने वाली है। स्नेहा चौहान इससे पहले खेलो इंडिया यूथ गेम्स में भी जूडो में गोल्ड मेडल जीत चुकी हैं।

इस मुकाम तक स्नेहा को ले जाने तक हरिद्वार पुलिस में तैनात उनके चाचा संतोष चौहान की अहम भूमिका रही। उनके चाचा उत्तराखंड पुलिस में तैनात हैं।

अपने चाचा की मेहनत, लगन और जज्बे को देखकर स्नेहा भी कुछ करना चाहती थी। अब स्नेहा ने नेशनल गेम्स में रजत पदक अपने नाम किया है। राज्य समीक्षा की तरफ से स्नेहा को उज्जवल भविष्य की शुभकामनाएं।

About Sneha Chauhan:

उत्तराखंड की Sneha Chauhan जूनियर हैं और 57 किलोग्राम भार वर्ग में ट्रेनिंग करती हैं। उनके पिता एक बिजनेसमैन हैं और 
उनकी मां एक गृहिणी हैं। वह याद करती हैं, "मैंने स्कूल में जूडो शुरू किया था। 

हमारे स्कूल पीटीआई ने हमें एक डेमो क्लास के लिए बुलाया और जिस तरह से उन्होंने हमें तकनीक और थ्रो सिखाया वह 
मुझे पसंद आया इसलिए मैंने खेल जारी रखा।" उनकी प्रेरणा जापान की अबे उटा हैं। 

उनकी प्रेरणा कोच जीवन शर्मा हैं जो कहते हैं, "जब मैंने उन्हें देखा तो वह हमेशा कुछ न कुछ करते रहते थे, वह काम 
पूरा होने तक कभी नहीं रुकते थे और बहुत मेहनती व्यक्ति थे, इसलिए इससे मुझे बहुत प्रेरणा मिली कि अगर वह अब तक 
ऐसा कर सकते हैं तो हम क्यों नहीं कर सकते।" करना"। 

खेलो इंडिया योजना के माध्यम से उनका आईआईएस में चयन हुआ। उन्हें उन कठिनाइयों का सामना करना पड़ा जब वह 
अपने ट्रायल के दौरान घायल हो गई थीं, जब वह किसी भी प्रतियोगिता में खेलने में सक्षम नहीं थीं और कई महीनों तक 
प्रशिक्षण लेने में भी सक्षम नहीं थीं। 

वह आईआईएस में दी गई सुविधाओं की प्रशंसा करती हैं। उन्हें बैंकॉक, थाईलैंड में कैडेट एशियन चैंपियनशिप के लिए चुना 
गया था और उन्होंने खेलो इंडिया गेम्स में रजत पदक भी जीता है। 

वह विश्व चैम्पियनशिप, एशियाई चैम्पियनशिप और ओलंपिक खेलों में देश के लिए पदक जीतना चाहती है। उसे मिठाइयाँ 
खाना पसंद है और वह फंकी टी-शर्ट की संग्रहकर्ता है। 

वह हिंदी और अंग्रेजी बोलती है। उनका शौक संगीत सुनना है और उन्हें साहसिक और कॉमेडी फिल्में देखना 
पसंद है।

ये भी पढ़ें :

Siddhi Pant Selected in Cricket:पिथौरा गढ़ की सिद्धि पंत का क्रिकेट में चयन हुआ

Javed Akhtar Raise Slogans Of Jai Shree Ram:जावेद अख्तर ने कहा ‘राम-सीता की भूमि पर जन्म होना गर्व की बात है’, लगाएंगे जय सिया राम के नारे

TAGGED:
Share This Article