पूजा पाठ करने के लिए सुबह का समय सबसे अच्छा क्यों माना जाता है? सुबह इस समय पूजा करने से मनोकामना पूर्ण होती है

पूजा पाठ करने के लिए सुबह का समय सबसे अच्छा क्यों माना जाता है? सुबह इस समय पूजा करने से मनोकामना पूर्ण होती है

ब्रह्ममुहूर्त में पूजा सबसे उपयुक्त मानी जाती है।ठीक से कवर किया गया, यह प्रतिकूल परिस्थितियों का एक बड़ा सामना करेगा।ऋषियों और मुनियों ने ब्रह्ममुहूर्त को देवताओं का काल कहा है।हमें प्रतिदिन ब्रह्ममुहूर्त में जागना चाहिए।इस समय उठकर पूजा करने से मन को शांति मिलती है।

ब्रह्म का अर्थ है परम तत्व या परमात्मा, इसलिए सूर्योदय से पहले उठकर पूजा करनी चाहिए।ब्रह्म मुहूर्त रात्रि का अंतिम पहर है।ब्रह्ममुहूर्त सुबह 9 बजे से 5.30 बजे तक रहता है।

सुबह उठना भी आपकी सेहत के लिए अच्छा होता है।क्योंकि सुबह शरीर पर सूरज की पहली किरणें हमारे लिए बहुत फायदेमंद होती हैं।यह हमारी त्वचा को हमेशा ग्लोइंग रखता है।

सुबह हमारा दिमाग भी एकाग्र रहता है।जिससे पूजा करते समय हमारा मन पूरी तरह भगवान से जुड़ जाता है और पूजा करते समय मन बिल्कुल भी नहीं भटकता।पूजा करते समय पूरा ध्यान पूजा पर होना चाहिए।अगर पूजा करते समय हमारा ध्यान भटकता है, तो हमें पूजा का पूरा फल नहीं मिल पाता है।
दोपहर के समय पूजा क्यों नहीं

दोपहर के समय पूजा करना वर्जित माना जाता है।क्योंकि उस समय पितरों की पूजा करना शुभ माना जाता है।दोपहर में भगवान की पूजा करने से शुभ फल नहीं मिलते और दिन में कई तरह के विचार हमारे दिमाग में दौड़ते रहते हैं।जिससे हमारा पूरा ध्यान पूजा पर नहीं हो पाता, इसलिए सुबह का समय पूजा पाठ के लिए सबसे अच्छा समय माना जाता है।

jaimish

jaimish