बड़ा मौका : सोना होने वाला है 60,000 रु के पार, ये हैं कारण

बड़ा मौका : सोना होने वाला है 60,000 रु के पार, ये हैं कारण

सोने की कीमतो में अगले चार महीने में करीब 16 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हो सकती है। भारत के घरेलू बाजार में सोने की कीमत फिलहाल 52,000 रुपए प्रति 10 ग्राम के निचे है। बात अगर अंतराष्ट्रीय बााजर की करें तो यह 1,756 डॉलर प्रति आउंस है। लेकिन भारत समेत दुनियाभर के जानकारों का कहना है कि 2022 के अंत तक अंतरराष्ट्रीय बाजार में सोने की कीमत 2,000 डॉलर प्रति 10 ग्राम और भारतीय बाजार में 60,000 रुपए प्रति 10 ग्राम तक पहुंच सकती है।

क्या है कारण

1. महंगाई में स्थिरता : ब्लूमबर्ग के रिपोर्ट के अनुसार ऊंची महंगाई दर लंबे समय तक टीकेगी। जिसके कारण सोने में निवेश प्रभावित होंगे

2. डॉलर इंडेक्स: भास्कर मनी के रिपोर्ट के मुताबिक डॉलर इंडेक्स 20 साल के ऊंचे स्तर 113 से नीचे रहेगा। जिस कारण से सोने की किमतो में 150-200 डॉलर की तेजी देखी जा सकती है।

3. मंदी की है आशंका : अमेरिका की फाइनेंशियल सेवा फर्म वेल्स फार्गो के अनुसार, अक्टूबर या नवंबर के महीने से अमेरिका में मंदी शुरूआत होगी, मंदी के हालातो में डॉलर कमजोर होता जाता है और सोने के कीमतो में तेजी आती है।

4. सोने की माइनिंग : एक साल में गोल्ड माइनिंग लागत 7% बढ़कर 1,173 डॉलर प्रति आउंस होने से सोने की सप्लाई कॉस्ट बढ़ने लगी है, सोने की कीमतो में बढ़ोत्तरी का यह भी कारण हो सकता है।

2020 से अबतक सोने के दाम

7 अगस्त 2020- 56,126 रुपया
1 दिसंबर 2020- 48,592 रुपया
5 फरवरी 2021- 47237 रुपया
31 मार्च 2021 – 44190 रुपया
1 जून 2021- 49,319 रुपया
28 दिसंबर 2021- 49,235 रुपया
18 नवंबर 2021 – 49,235 रुपया
07 मार्च 2022- 53,595 रुपया
25 अगस्त 2022- 52,094

भास्कर मनी के मुताबिक गोल्ड की कीमत अभी अंडरवैल्यूड है। मतलब की आज सोने की कीमत उतनी नहीं है, जितनी होनी चाहिए थी। विश्व में मंदी की आशंका बढ़ रही है। 2008 की वैश्विक मंदी से 6-8 महीने पहले सोने की कीमते उम्मीद से कम थी। पिछले रिकार्डो को देखे तो यह तुफान से पहले की शांती है।

Ronak Lakhani

Ronak Lakhani