शिवपुराण में बताए गए हैं ॐ के नाम से जुड़े अर्थ, जानिए ओम मंत्र से जुड़े ये रहस्य

शिवपुराण में बताए गए हैं ॐ के नाम से जुड़े अर्थ, जानिए ओम मंत्र से जुड़े ये रहस्य

सनातन हिंदू धर्म में, देव उपासना, शास्त्र वचन, मांगलिक कार्य, ग्रंथ पथ, या भजन-कीर्तन के दौरान ओम का जाप करना आवश्यक है। अक्सर इसका उच्चारण किया जाता है। की ध्वनि तीन अक्षरों से बनी है।

अ, उ और म। ये मूल ध्वनियाँ हैं जो हर समय आपके फ़ीड के लिए बोली जाती हैं। ओम् को अनहद नाद भी कहा जाता है। और इसे प्रणव भी कहते हैं। प्रणव नाम के साथ बहुत गहरा अर्थ जुड़ा है,

जिन्हें अलग-अलग पुराणों में अलग-अलग तरीके से दिखाया गया है। यहां हम शिव पुराण में दर्शाए गए ओम के प्रणव नाम से जुड़े अर्थों की व्याख्या करेंगे। शिव पुराण प्रणव के विभिन्न शाब्दिक अर्थों और मूल्यों को दर्शाता है।

‘प्र’ का अर्थ है प्रपंच, ‘ण’ का अर्थ है नहीं, और ‘व’ का अर्थ है आप सभी। सार यह है कि प्रणव मंत्र भौतिक जीवन में भ्रम को दूर करने यानि कलह और दुख को दूर करने और जीवन के मुख्य लक्ष्य मोक्ष को प्राप्त करने के लिए है।

यही कारण है कि ओम को प्रणव के नाम से जाना जाता है। दूसरे अर्थ में, ‘प’ का अर्थ है प्रकृति से बने सांसारिक सागर को पार करना, और ‘न’ का अर्थ है नाव दिखाया गया है। इसी प्रकार ऋषियों की दृष्टि से ‘प्र’ का अर्थ है ‘प्रकाशन’, ‘ण’ का अर्थ नयत और ‘व’ का अर्थ है ‘युष्मान मोक्षम इति या प्रणव’

जिसका सरल शब्दों में अर्थ यह है कि यह प्रणव है जो सभी भक्तों को शक्ति प्रदान करता है और उन्हें जन्म और मृत्यु के बंधन से मुक्त करता है। धर्म शास्त्रों के अनुसार मूल मंत्र या जप केवल Om है। ओम के पहले या बाद में लिखे गए शब्द गौण हैं। वही महामंत्र और जप उपयुक्त हैं।

jaimish

jaimish

Leave a Reply

Your email address will not be published.