भक्तों के संकट हरनेवाले हनुमानजी को क्यों चढ़ाया जाता है सिंदूर?? जानिए उसके बारे में….

भक्तों के संकट हरनेवाले हनुमानजी को क्यों चढ़ाया जाता है सिंदूर?? जानिए उसके बारे में….

भगवान राम के परम भक्त हनुमान जी अपने भक्तों के सभी कष्टों को हरने वाले माने जाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि जो व्यक्ति सच्चे मन से महाबली हनुमान जी की पूजा करता है, उसके जीवन की सभी समस्याओं से छुटकारा मिलता है। ऐसा माना जाता है कि भगवान हनुमान जी सभी देवताओं में सबसे अधिक प्रसन्न हैं। अगर कोई भक्त सच्चे मन से उनकी पूजा करता है तो उसे और कुछ करने की जरूरत नहीं है। हनुमान जी अपने भक्तों की आस्था देखते हैं। साधारण पूजा से हनुमानजी प्रसन्न होते हैं।

पूजा के बाद अमृतवाणी और श्री हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और अपने भक्तों को आशीर्वाद देते हैं और उनकी सभी मनोकामनाएं पूरी करते हैं। आज भी हनुमानजी के भक्तों की संख्या बहुत अधिक है। हम सभी जानते हैं कि मंगलवार का दिन हनुमानजी को समर्पित है। इस दिन लोग मंगलवार को उपवास रखते हैं और उनसे प्रार्थना करते हैं।

मंगलवार के दिन लोग हनुमान जी को सिन्दूर चढ़ाते हैं। ऐसा करने से हनुमान जी अपने भक्तों के सभी कष्ट दूर कर देते हैं। वैसे हनुमान जी के कई नाम हैं, उनमें से एक है बजरंगबली। शक्ति और बुद्धि के देवता रामभक्त हनुमान बहुत शक्तिशाली हैं। उसने एक हाथ से पूरे पहाड़ को उठा लिया। पुराणों में उल्लेख है कि हनुमान जी का शरीर गर्जना के समान है, इसलिए उन्हें बजरंगबली कहा जाता है।

जानिए हम हनुमानजी को क्यों चढ़ाते हैं सिंदूर?: हिंदू धर्म में सिंदूर का विशेष महत्व है। जैसा कि हम जानते हैं कि विवाहित महिलाएं अपनी मांग सिंदूर से भरती हैं। इसके अलावा पूजा में भी सिंदूर का प्रयोग किया जाता है। लगभग सभी देवताओं को सिंदूर से तिलक किया जाता है। वहीं हनुमानजी को सिंदूर चोल भी चबाया जाता है। बहुत से लोग ऐसे हैं जो हनुमानजी को सिंदूर चढ़ाने का कारण नहीं जानते हैं।

पौराणिक कथा के अनुसार एक बार हनुमानजी ने माता सीता को सिंदूर पहने हुए देखा था। फिर उन्होंने माता सीता से पूछा कि तुम सिंदूर क्यों लगाते हो? तब सीता माता ने हनुमानजी के प्रश्न का उत्तर देते हुए कहा कि यह शहद का प्रतीक है। वह अपने पति श्री राम की लंबी उम्र और अच्छे स्वास्थ्य की मांग में सिंदूर लगाती हैं।

जब महाबली हनुमान जी ने माता सीता की कथा सुनी तो वे सोचने लगे कि मांग में सिंदूर लगाने से जब भगवान को इतना ही लाभ मिलता है तो मैं पूरे शरीर पर सिंदूर लगा देता हूं, इससे भगवान श्री राम अमर हो जाएंगे।

उसके बाद हनुमानजी ने अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगाया, जिसे भगवान श्री रामजी ने देखा और इसका कारण पूछा। जब भगवान श्री रामजी को इसका कारण पता चला तो वे उनकी भक्ति से बहुत प्रसन्न हुए। श्री रामजी ने हनुमानजी से कहा कि आज से तुम्हारा नाम बजरंगबली होगा। बजरंग बली दो शब्दों बजरंग (नारंगी) और बाली (शक्तिशाली) से मिलकर बना है। तभी से राम भक्त हनुमानजी को सिंदूर चढ़ाने की प्रथा चली आ रही है। सिंदूर चढ़ाने से महाबली हनुमान जी प्रसन्न होते हैं।

jaimish

jaimish

Leave a Reply

Your email address will not be published.