नही जानते होंगे आप गणेशजी को गजराज का सिर लगाने के बाद कटे हुए सिर का क्या हुआ?

नही जानते होंगे आप गणेशजी को गजराज का सिर लगाने के बाद कटे हुए सिर का क्या हुआ?

हिंदू धर्म के लोग जानते होंगे कि भोलानाथ ने क्रोधित होकर अपने ही पुत्र का सिर काट दिया। जब शिवजी का क्रोध शांत हुआ, तो उन्होंने गणेश को एक हाथी के बच्चे के धड़ पर रख दिया। यह एक ऐसी चीज है जिसके बारे में लगभग सभी को पता होगा, लेकिन क्या आप जानते हैं कि भगवान शंकर द्वारा काटे गए गणेश का सिर कहां रखा गया था और आज क्या है।

अगर नहीं तो आज जानिए शिवाजी ने आखिर गणेश के कटे सिर का क्या किया। शास्त्रों के अनुसार भगवान गणेश को एक हाथी के बछड़े का सिर रखने से एक नई पहचान मिली, लेकिन उनका असली सिर अभी भी एक गुफा में है।

पौराणिक कथा के अनुसार, भोलानाथ ने अपने पुत्र गणेश के कटे हुए सिर को उत्तराखंड की एक गुफा में रखा था। उल्लेखनीय है कि यह गुफा उत्तराखंड के पिथौरागढ़ में स्थित है, जिसे भुवनेश्वर की अस्थियों के रूप में जाना जाता है। कहा जाता है कि यह वर्णन स्कंद पुराण में भी मिलता है। कहा जाता है कि यहां गणेश जी की एक मूर्ति कटी हुई है जिसे आदिगणेश कहते हैं।

पिथौरा किले की यह गुफा आज भी अहिया के लोगों के साथ-साथ दूसरे देशों से आने वाले श्रद्धालुओं की आस्था का केंद्र है। बता दें कि गुफा एक विशाल पर्वत के बगल में 30 फीट के अंदर है। कुछ लोगों का कहना है कि इस गुफा की खोज आदि शंकराचार्य ने की थी। पाताल भुवनेश्वर नामक इस गुफा में कटे हुए पत्थर के रूप में भगवान गणेश की मूर्ति के शीर्ष पर 108 पंखुड़ियों वाला शवाष्टक दल ब्रह्म कमल है।

ऐसा कहा जाता है कि इस ब्रह्म कमल से गणपति के चट्टानी सिर पर पानी की दिव्य बूंदें हमेशा टपकती रहती हैं। मुख्य बूँदें आदि गणेश के मुख में गिरती हुई दिखाई देती हैं। ऐसा माना जाता है कि इस ब्रह्म कमल की स्थापना स्वयं भगवान शिव ने यहां की थी।

कहा जाता है कि यहां केदारनाथ, बद्रीनाथ और अमरनाथ भी देखे जाते हैं। बद्रीनाथ में जहां बद्री पंचायत की पत्थर की मूर्तियां हैं, वहां यम-कुबेर, वरुण, लक्ष्मी, गणेश और गरुड़ हैं। इस गुफा में तक्षक नाग की आकृति भी दिखाई देती है। इसके ऊपर बाबा अमरनाथ की गुफा भी है और पत्थर के बड़े-बड़े शिलाखंड हैं।

साथ ही यहां काल भैरव की जीभ दिखाई देती है, जिसके बारे में मान्यता है कि यदि कोई मनुष्य काल भैरव के मुख से गर्भ में प्रवेश कर पूंछ तक पहुंच जाए तो मोक्ष की प्राप्ति होती है।

jaimish

jaimish

Leave a Reply

Your email address will not be published.